भारत के विदेश मंत्री, पाकिस्तान कश्मीर में माहौल ख़राब करने के लिए ये प्रोपेगेंडा चला रहा है

भारत के बिंदेश मंत्री जयशंकर ने अमेरिकी थिंक टैंक ट 'द हैरीटेज फाउंडेशन ’में बुधवार (2 अक्टूबर 2019) को कहा कि आर्टिकल 370 को जम्मू-काश्मीर से हटाने के बाद भारतीय सुरक्षा बलों ने जम्मू-कश्मीर में अत्यंत संयम बरता है।

2
indian foreign minister jaishankar
Indian foreign minister Jaishankar

भारत के बिंदेश मंत्री जयशंकर ने अमेरिकी थिंक टैंक ट ‘द हैरीटेज फाउंडेशन’ में बुधवार (2 अक्टूबर 2019) को कहा कि आर्टिकल 370 को जम्मू-काश्मीर से हटाने के बाद भारतीय सुरक्षा बलों ने जम्मू-कश्मीर में अत्यंत संयम बरता है।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद -370 (Article 370) के ज्यादातर प्रावधानों को हटाने के लिए भारत सरकार का उचित कदम बताते हुए कहा कि पाकिस्तान से यही उम्मीद थी कि वह भारत सरकार के इस निर्णय को चुनौती देने के लिए हर संभव कोशिश करेगा क्योंकि उसने कश्मीर में आतंकवाद भड़काने के लिए बड़ा निवेश किया है। बिदेश मंत्री ने एक शीर्ष अमेरिकी थिंक टैंक ‘द हैरीटेज फाउंडेशन’ में बुधवार को कहा कि भारतीय सुरक्षा बलों ने पांच अगस्त के फैसले के बाद से जम्मू-कश्मीर में बेहद संयम बरता है और उनका अनुमान है कि पाकिस्तान पिछले कई दशकों से जो कर रहा है वो उसे जारी रखेगा।

वित्त मंत्री- मंत्रालय छोटे उद्योगों के बकाये का भुगतान जल्द करें

जयशंकर ने कहा की आप पाकिस्तानियों से क्या उम्मीद करते हैं कि वे कश्मीर में मौजूदा प्रतिबंध हटने के बाद और हालात फिर से सामान्य होने के बाद क्या कहेंगे? क्या आप को लगता हैं कि वे चाहेंगे की कश्मीर में शांति और खुशहाली लौट आए नहीं बिलकुल भी नहीं वे (पाकिस्तानी) ऐसा नहीं चाहेंगे। वे ऐसे प्रोपेगेंडा फैलाएंगे और दिखाने की कोशिश करेंगे कि जैसे कश्मीर में सब नष्ट हो गया है और वहा मानवाधिकार का उलंघन हो रहा है क्योंकि पहली बात तो यह है कि वे यही चाहते हैं और दूसरी बात यह है कि 70 साल से यही उनकी यही मंशा रही है।

वित्‍तमंत्री: कैंप लगाकर बांटेगे 400 जिलों में लोन, सांसद बनेंगे गवाह

जयशंकर से पाकिस्तान के उस बयान के बारे में पूछा गया था जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि भारत फर्जी झंडा उठाएगा और कश्मीर में सुरक्षा और संचार प्रतिबंध हटाए जाने के बाद हर आतंकवादी हमले के लिए इस्लामाबाद को दोषी ठहराएगा। इसके जवाब में विदेश मंत्री ने यह टिप्पणी करते हुए कहा की मुझे लगता है कि इन टिप्पणियों को लेकर कोई भी निर्णय लेने से पहले कश्मीर के इतिहासपर ध्यान देना महत्त्वपूर्ण होगा। ऐसी बातें पांच अगस्त को ही शुरू नहीं हुईं बल्कि पाकिस्तानियो की ये हरकतें उसी दिन से शुरू हो गई थीं जब कश्मीर ने भारत को स्वीकार किया था और पाकिस्तानी घुसपैठियों ने श्रीनगर को जलाने की धमकी दी थी।

हाल ही में आप ने देखा है की पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने UN में अपने पूरे भाषण के दौरान कश्मीर और नुक्लेअर वार का राग आलापते रहे। जब की भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने भारत में हुए डेवलपमेंट और आंतंकवान्द जैसे मुद्दों पर जोर दिया। पाकिस्तान ने जब UN में झूठ का प्रोपेगेंडा फैलाने की कोसिस की तब भारत के स्थाई सदस्य ने राइट तो रिप्लाई के तहत पाकिस्तान को जबरदस्त रिप्लाई देते हुए बेनकाब कर डाला। आप को यू वीडियो जरूर देखना चाहिए ..