Home News Chandrayaan-2 Update: चंद्रयान-2 ऑर्बिटर(Orbiter) की 5 खास उपलब्धिया

Contents

Chandrayaan-2 Update: चंद्रयान-2 ऑर्बिटर(Orbiter) की 5 खास उपलब्धिया

Chandrayaan-2 Update: इसरो चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर के जरिये अपने निर्धारित विज्ञान प्रयोगों को करने में सफल रहा है। आप को बता दे की ऑर्बिटर(Orbiter) में 8 उपकरण लगे हैं, और प्रत्येक उपकरण पूरी तरह से अपना काम कर रहे है, जिसके लिए उन्हें बनाया गया था। यहां हम आप को चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर की अब तक की उपलब्धियो के बारे में बतायेगे।

Chandrayaan-2 Update: चंद्रयान-2 इसरो का एक बहुत खास मिसन था। इस मिसन में इसरो(ISRO) चन्द्रमा के साउथ पोल में सॉफ्ट लैंडिंग कराने की पूरी कोसिस में था। (Chandrayaan-2 Vikram Lander soft landing on moon surface). यदि इसरो ऐसा कर लेता तो भारत विश्व का 4था देश बन जाता, जो की चन्द्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग करने में सफल होता। पर दुर्भाग्यपूर्णबस ऐसा नहीं हो पाया। इसरो चन्द्रमा के साउथ पोल की सतह विक्रम लैंडर की लैंडिंग करने में असफल रहा।

ISRO अब लॉन्च करेगा कार्टोसैट-3 सेटेलाइट, जाने क्यों है खास ये भारत के लिए

लैंडिंग के कुछ मिनट पहले ही इसरो का विक्रम लैंडर से संपर्क टूट गया। 7 सितम्बर को चंद्रयान 2 के विक्रम लैंडर का संपर्क चन्द्रमा की सतह से केवल 2.1 km की दूरी पर इसरो के बेस स्टेशन से लैंडिंग के दौरान टूट गया था। आप को बता दे की भारत भले ही चंद्रयान-2 की सॉफ्ट लैंडिंग कराने असफल रह हो पर चंद्रयान मिसन फिर भी सफल रहा क्योंकी चंद्रयान-2 मिसन (Chandrayaan-2 Mission) के तहत चंद्रयान के ऑर्बिटर को सफलता पूर्वक चन्द्रमा की कच्छा स्थापित कर दिया गया।

सावधान : WhatsApp हुआ Hack !! जानिए क्या है पूरा मामला ?

जैसा की आप जानते है की चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर(Chandrayaan-2 Vikram Lander) की चन्द्रमा के सतह पर एक हार्ड(क्रैश) लैंडिंग थी पर उसके वाबजूद चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर(Chandrayaan-2 Orbiter) को उसके निर्दिष्ट स्थान (कच्छा) पर स्थापित कर दिया गया था। इसरो चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर के जरिये अपने निर्धारित विज्ञान प्रयोगों को करने में सफल रहा है। आप को बता दे की ऑर्बिटर(Orbiter) में 8 उपकरण लगे हैं, और प्रत्येक उपकरण पूरी तरह से अपना काम कर रहे है, जिसके लिए उन्हें बनाया गया था। यहां हम आप को चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर की अब तक की उपलब्धियो के बारे में बतायेगे।

इसरो ने चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर द्वारा खींची गई चंद्रमा की पहले हाई रिज़ॉल्यूशन इमेजेज साझा की

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर की उपलब्धिया(Chandrayaan-2 Orbiter Achievements)

  • Chnadrayaan-2 CLASS PAYLOAD

चंद्रयान-2 ऑर्बिटर जो वर्तमान में चंद्रमा के चारों ओर घूम रहा है, अपने CLASS पेलोड का उपयोग शुरू कर दिया है। यह अपने पहले मार्ग के दौरान जियोटेल के माध्यम से आवेशित कणों (charged particles ) और उनकी तीव्रता भिन्नताओं का पता लगा सकता है। इसे एक बहु-बिंदु अध्ययन(multi-point study ) के लिए बनाया गया है जो की चंद्रमा के चारों ओर उपलब्ध चुंबकीय क्षेत्र, इलेक्ट्रॉनों के घनत्वा और उसके मूवमेंट के अध्यन के लिए सहायक होगा।

चंद्रयान-2 के बाद इसरो का गगनयान मिशन, भारतीय एस्ट्रोनॉट्स को रूस करेगा प्रशिक्षित

  • Chnadrayaan-2 OHRC Camara

चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर में लगे हाई-रिज़ॉल्यूशन कैमरा (OHRC) ने 4 अक्टूबर 2019 को 100 किमी की ऊँचाई पर 4:38 IST पर चन्द्रमा की तो तस्वीरें खींची। इसने BOGUSLAWSKY ई क्रेटर और परिवेश को दिखाया जो की चंद्रमा के दक्षिण ध्रुवीय क्षेत्र में स्थित है।

Boulders imaged by OHRC chandrayaan2
Boulders imaged by OHRC chandrayaan2

a close up view of the lunar surface by OHRC chandrayaan2
a close up view of the lunar surface by OHRC chandrayaan2

  • Chandrayaan-2 IIRS

चंद्रयान 2 ने चद्रमा की सतह का स्पेक्ट्रोस्कोपिक अध्ययन शुरू कर दिया है। ऑर्बिटर के IIRS द्वारा चन्द्रमा के उत्तरी गोलार्ध की सतह की पहली इमेज 17 अक्टूबर 2019 को ली गई। इस इमेज में उत्तरी गोलार्ध में स्थित कुछ प्रमुख क्रेटर और चंद्र फ़ार्साइड के कवर हिस्से को दिखाया गया है।

Chandrayaan2 IIRS image
Chandrayaan2 IIRS image

  • Chandrayaan-2 DF-SAR

इसरो ने डीएफ-एसएआर मिशन की विस्तृत जानकारी को साझा किया, इसे चन्द्रमा की सतह पर प्रभाव craters की ( morphology and ejecta materials of impact craters on the lunar surface) आकृति विज्ञान और क्रेटर के बारे में अधिक विवरण तैयार करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

Chandrayaan-2 DF-SAR Image
Chandrayaan-2 DF-SAR Image

Pitiscus T
Pitiscus T

  • Chandrayaan-2 CHACE-2 Payload

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने लगभग 100 किलोमीटर की ऊंचाई से चंद्र एक्सोस्फीयर पर आर्गन-40(Argon-40) का पता 31 अक्टूबर 2019 को लगाया है। इसरो ने घोषणा की, चंद्रयान -2 कक्षा में स्थापित CHACE-2 पेलोड ने लगभग 100 किलोमीटर की ऊंचाई से आर्गन-40 का पता लगाया है।

Pratima Patel
Hindi News (हिंदी समाचार): Get updated with all news like business news, idea, entertainment, tech,sports, politics and life style related news from all over India and around the world. यहां पर आपको हिंदी समाचार जैसे देश-दुनिया, बिजनेस, मनोरंजन, टेक, खेल पॉलिटिक्‍स और लाइफस्‍टाइल से जुड़ी खबरें पढ़ने को मिलेंगी।

Most Popular

एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्‍लांट भारत के रीवा शहर में, जानें इसकी खास बातें

एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्‍लांट: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में भारत के सबसे बड़े सोलर प्‍लांट का उद्घाटन किया है जो...

किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) कैसे बनवाएं?

किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) भारत सरकार की एक खास योजना है, जिसका उद्देश्य किसानों को असंगठित क्षेत्र में आमतौर पर मनी लेंडर्स द्वारा लगाए...

वन नेशन, वन राशन कार्ड योजना के बारे में पूरी जानकारी

वन नेशन, वन राशन कार्ड योजना: वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार 14 मई 2020 को मार्च 2021 तक सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों...

आत्‍मनिर्भर भारत अभियान (Atmanirbhar Bharat Abhiyan): 20 लाख करोड़ का पैकेज किस तरह से बटेगा जानिए यहां

आत्‍मनिर्भर भारत अभियान (Atmanirbhar Bharat Abhiyan): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के लिए अपने पांचवें संबोधन में 'आत्‍मनिर्भर भारत अभियान' (Atmanirbhar Bharat Abhiyan) के...

Recent Comments